Saturday, June 26, 2010

नमन

श्याम मोहन मदन मुरारी
राधे- राधे रटती प्यारी 
कृष्ण केशव कुञ्ज बिहारी
रमता जोगी बहता पानी 
आनंद कंद  मुरली धारी 
जमुना जी की महिमा न्यारी
गोविन्द माधव गिरिवरधारी 
खोजत -खोजत सखियाँ हारी 
आनंदघन अविनाशी त्रिभुवनधारी
कुञ्ज- कुञ्ज में बसे गिरधारी
नटवर नागर छैल बिहारी
रोम- रोम में रमे मुरारी
सुखधाम सुधासम कृष्ण मुरारी
कण -कण में रम रहे रमणबिहारी

12 comments:

  1. बंसीवाले तेरे रूप अनेक

    ReplyDelete
  2. जय जय श्री कृष्ण

    दीदी, आपका यह ब्लॉग गागर में कृष्ण प्रेम रूपी सागर सा प्रतीत होता है.....

    मेरे ब्लॉग पर उत्साहवर्धन के लिए कोटि कोटि धन्यवाद

    आपका भ्राता

    ReplyDelete
  3. Kitne anoothe roopon ka parichay karaya aapne!

    ReplyDelete
  4. jai sri krishna....

    mazaa aa gaya is roop ke darshan paa ke...

    ReplyDelete
  5. जै श्रीकृष्ण बहुत सुन्दर भजन है बधाई।

    ReplyDelete
  6. श्याम मोहन मदन मुरारी
    राधे- राधे रटती प्यारी
    --
    बहुत ही प्यारा भजन रचा है आपने!

    ReplyDelete
  7. मुकुट बिहारी के सारे रूपों के दर्शन हो गए..सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. मुरलीवाले की महिमा अपार है उसके बिना जीना बेकार है। आपको एक शानदार रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  9. आजकल कुछ व्यस्तता ज़्यादा है.... फिर भि कोशिश पूरी रहती है..... आपके ब्लॉग को पढने की....आज की यह रचना बहुत अच्छी लगी....

    ReplyDelete
  10. बहुत ही प्यारा भजन ...
    अच्छी रचना ....

    ReplyDelete
  11. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    ReplyDelete